भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोस्त / इदरीस मौहम्मद तैयब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसकी गरदन के तिल से
मेरा याराना हो गया है
मैं कभी-कभी उसका अभिवादन करता हूँ
लेकिन मैं कभी भी
भावविभोर होकर उसे सलाम नहीं ठोंकता ।

रचनाकाल : 14 मार्च 2002

अंग्रेज़ी से अनुवाद : इन्दु कान्त आंगिरस