भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोहरे बिस्तर में मसखरे सा / ग्युण्टर ग्रास / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अकेला अजीब सा पेश आता है,
अकेले नहीं रहना चाहता ।

अकेला छलाँग लगाता है,
छलाँग के लिए तालियाँ चाहता है ।

अकेले को ख़ुद वह पसन्द नहीं,
वह सुनता है, खुजलाने की आवाज़ ।

अकेला ख़रीदता है : घण्टे, भोंपू,
ऐसी चीज़ें, जिनसे शोर हो सके ।

अकेला घूमने जाता है, ख़ुद से मिलता है ।
दो के लिए खाने का आर्डर देता है ।

अकेला अकेले सोता है
और किसी को परेशान नहीं करता ।

मूल जर्मन से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य