भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोहे-3 / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज्यों नभ-तल पर छा रहा, तारों में राकेश।
विश्व-धरातल पर रहे, त्यों यह भारत देश।।

अन्तर्मन से था किया, जिसपर दृढ़ विश्वास।
खण्ड-खण्ड वह कर गया, जीवन की हर आस।।

पाकर दुख को जड़ मनुज, क्रन्दन करे हज़ार।
क्रन्दन में यह सुधि गयी, क्रन्दन करे न पार।।

प्रान्त-प्रान्त में देश के, फैल रहा भय, त्रास।
जनता का कैसे रहे, सत्ता पर विश्वास।।

जोड़-जोड़कर सम्पदा, ख़ूब हुआ धनवान।
परहित में कितना किया, कर इसका अनुमान।।

आकर्षक, हँसमुख लगा, हर चेहरा ऐ यार।
किन्तु हृदय में था लिये, दुःखों का अम्बार।।

काम करे जो वक़्त पर, वक़्त उसे दे तार।
इससे ग़ाफ़िल जीव पर, पड़े वक़्त की मार।।

ज़रा-ज़रा-सी बात पर, उपजे मन में क्लेश।
यों जीने से श्रेष्ठ है, मरना ही 'दरवेश'।।

घृणा पनपती है सदा, राजनीति में मीत।
उखड़े-उखड़े स्वर यहाँ, लगें सरस संगीत।।

क्रूर, कुटिल, कटु, वक्र हैं, राजनीति के काम।
घर, परिवार, समाज का, करते काम तमाम।।