भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोहे / अवतार एनगिल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोयल की वाणी गई, बासमती की बास।
केला कड़वा हो गया ग़ुड़ की रही मिठास।
              *****
काट-काट तन खाये जो, कहें उसे तनखाह।
पहली से पहली तलक, चला भागता जा।
              *****
कहा चिकित्सक ने हमें करो सुरक्षित भोग।
जितने बढ़ गये डॉकटर,उतने बढ़ गए रोग।
              *****
पत्नि फीकी लग रही, चटपटी दूजी नार।
कड़वी छाया नीम की मीठा हर सिंगार।
              *****
बन्दर अदरक खा गयो, लुट गयो हमरो नीम।
अरी अभागी भारती, तेरे नीम हकीम।
              *****
पंजीक़ृत अब हो गयी, बरसाती की बास,
चावल देहरादून का मालिक है टैक्साज़।
              *****
यश पाया धन भी मिला,बन गयी ब्यूटी क्वीन
विज्ञापन के खेल में,श्री भी श्री विहीन।
              *****
गली-गली में एक रूपसी, घर-घर में श्रृंगार।
रती सती लंदन चली,कामदेव बेकार।
              *****
दलबदली के दौर में कौन किसी का मीत।
झण्डीवाली कार की तीन लोक में जीत।
              *****
मतदाता को छल गये, आये भिखारी कल।
नीति भई अनीति अब, दलदल बन गये दल।
              *****
मस्जिद ढाई ईंट की मंदिर पाथर तीन।
ढाई आखर प्रेम के हमसे लीने छीन।
              *****
लोहा ढला जंज़ीर में, खोई सत्य ने धार।
दल बदली के बिना अब,चलती नहीं सरकार।
               *****
मतदाता तो कर गया, अपना मत उपयोग।
नेताजी को गल गया, दलबदली का रोग।
              *****
बोला पंछी बावरा, जीतूंगा संसार।
जीत लिया संसार तो, पखों ने दी हार।
             *****
सखियों संग रही भागती, बीत गये दिन चार।
अब डोली आई खड़ी,चलो पिया के द्वार।