भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोहे / सुंदरदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गज अलि मीन पतंग मृग, इक-इक दोष बिनाश।

जाके तन पाँचौं बसै, ताकी कैसी आश॥

सुंदर जाके बित्त है, सो वह राखैं गोइ।

कौडी फिरै उछालतो, जो टुटपूँज्यो होइ॥

मन ही बडौ कपूत है, मन ही बडौ सपूत।

'सुंदर जौ मन थिर रहै, तो मन ही अवधूत॥