भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दो दुश्मन / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पैदा हुई है आत्मा यदि पंखों के साथ
महलों और झोपड़ियों से उसे क्या मतलब !
उसे क्या मतलब चंगेज़ खाँ और उसकी फ़ौज से !

दो हैं दुश्मन मेरे इस दुनिया में
दो जुड़वाँ बहनें कभी न जुदा होनेवाली-
भूखों की भूख और तृप्ति तृप्तों की ।

रचनाकाल : 18 अगस्त 1918

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह