भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दो बदन / ओक्ताविओ पाज़ / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दो बदन आमने-सामने
कभी-कभी लहरें,
और रात एक सागर ।

दो बदन आमने-सामने
कभी-कभी पत्थर के दो टुकड़े,
और रात एक रेगिस्तान ।

दो बदन आमने-सामने
कभी-कभी जड़ें,
और रात बिजली की चमक ।

दो बदन आमने-सामने :
सुनसान आसमान में
चमकते दो सितारे ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य