भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दो शरीर / ओक्ताविओ पाज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दो शरीर सन्मुख
हैं दो लहरें कभी-कभी
रात है समुद्र तब

दो शरीर सन्मुख
हैं दो पत्थर कभी-कभी
रात मरुभूमि तब

दो शरीर सन्मुख
हैं दो जड़ें कभी-कभी
गुँथी हुई रात में

दो शरीर सन्मुख
हैं दो चाकू कभी-कभी
रात है चिंगारी छोड़ती

दो शरीर सन्मुख
हैं दो तारे टूटते
रिक्त आकाश में