भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दौड़ / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आं बुझतै खीरां में
फूंक
ना तूं मार सकै
अर ना म्हैं
आपणी स्सा दौड़
रोटी सूं लेय’र
लुगाई रै डील तांई है
इणी खातर कैवूं-
ओ अफसोस फालतू है कै
आं खीरां सूं
लाटा कद उठैला ?