भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दौलत और नींद / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दौलत के नशे में नींद नहीं आती ।

फकी़र को लुटने का डर नहीं होता ॥

फुटपाथ पर हमको सोने दे हुज़ूर ।

मुफ़लिसों का कहीं भी घर नहीं होता ।।

उपवन मत जलाओ कुछ शूल के लिए ।

यों कोई शहर बेहतर नहीं होता ।।

काबुल में खिलें या काशी में मह़कें ।

फूल के हाथ में खंज़र नहीं होता ॥

नाग पालकर वे चाहते रहे अमन ।

ज़िन्दगी का इलाज ज़हर नहीं होता ॥

हो चुके हैं लोग अब इतने बेहया ।

चीख- पुकार का भी असर नहीं होता ॥