भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धन्यवाद / जय छांछा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुमने
कोई पुरस्कार नहीं दिया
तगमा नहीं दिया
भौतिक धन संपत्ति नहीं दी
इनसे भी अमूल्य
नि:स्वार्थ प्रेम दिया ।

इसके लिये
आखिर क्या दूँ मैं तुम्हें?
फकत एक शब्द देना चाहता हूं-

'धन्यवाद"।

मूल नेपाली से अनुवाद : अर्जुन निराला