भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धरती के नीचे मुझे कोई जगह दे दो / पाब्लो नेरूदा / प्रकाश के रे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरती के नीचे मुझे कोई जगह दे दो,
कोई भूलभुलैया,
जहाँ मैं जा सकूँ, जब चाहूँ,
बिना आँखों के, बिना छुए,
उस शून्य में, चुप पत्थर तक,
या अन्धेरे की अँगुलियों तक ।

जानता हूँ कि तुम या कोई भी, कुछ भी
उस जगह, या उस राह तक नहीं पहुँच सकता,
लेकिन मैं अपनी बेचारी कामनाओं का क्या करूँ,
अगर उनका कोई मतलब नहीं, रोज़मर्रा की धरती पर,
अगर मैं ज़िन्दा रह ही नहीं सकता बिना मरे, बिना उधर गए,
बिना बने चमकीली-ऊँघती प्रागैतिहासिक अग्नि की चिंगारियाँ ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : प्रकाश के रे