भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धरती पोढ भायला / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरती पोढ भायला
आभो ओढ भायला

ऊपर तो पळकै तन
हेठै कोढ भायला

मिनख मारण री अठै
माड़ी होड भायला

म्हांरा गिटग्या म्हांनै
भूल्या कोड भायला

कीं कर दिखा अबै तो
बातां छोड़ भायला