भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

धरती रै मन में आग आज / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरती रै मन में आग आज
बरसां पछै उठी जाग आज

तोड़ो हां तोड़ो स्सै भींतां
सगळां खातर औ बाग आज

आंगणा-डागळा हरख करै
गळी-गळी मीठी राग आज

रुच-रुच जीमांला सगळा ई
है सोगरा फळी साग आज

आखर अलख जगावण आया
हुई सवाई आ पाग आज