भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धरती रै मन में आग आज / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरती रै मन में आग आज
बरसां पछै उठी जाग आज

तोड़ो हां तोड़ो स्सै भींतां
सगळां खातर औ बाग आज

आंगणा-डागळा हरख करै
गळी-गळी मीठी राग आज

रुच-रुच जीमांला सगळा ई
है सोगरा फळी साग आज

आखर अलख जगावण आया
हुई सवाई आ पाग आज