भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धुंध / रीता सिन्हा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घन्नोॅ धुंध छै
आरू स्मृति रोॅ संझौती झुरमुट
लोरैलोॅ नजर खोजै छै
गाँव, बचपन, गलबाँही
ऊ पातरोॅ रं नदी
जै में हमरी माय के आँचल
खिलखिल करै
कनियाँ नाँखी घोघोॅ रोॅ बीचोॅ सें
झाँकतेॅ ओकरोॅ गोल-गोल चेहरा
लोर, तेज, ममता आरू झिड़की में
बनौटीपन नै छेलै
मजकि बेबसी में
नागफनी रं लागै कांछा ।
चैखटी पर राखलोॅ दीया में
जबेॅ-जबेॅ वैं झाँकै
दिखै ओकरोॅ झुर्री
थकचुरुओॅ, मायूस आरो उदास नजर
जेकरोॅ मानी
कोय्यो मानी नै छेलै ।