भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धुआँ / शिवनारायण जौहरी 'विमल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आधुनिक परिवेश में
पुराने और नए प्रशनों के
मनमाने उत्तर
खारोंचे जा रहे
भर जाता है मन, मस्तिष्क में
रंध्रों से निकलता है धुआँ
कौन सच है कौन झूठा
कौन जाने कौन समझे

रात के खंडहर से
नीले पटल पर फूटती चिंगारी
फैल जाती है दिग्दिग्न्तों
में जन्म लेता है
क्या अंधेरे में डूब कर
श्रीहीन हो जाता है उजाला॥