भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धुरी / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आर और पार के बीच
युगों से तैरती मैं
रोज देखती हूँ
उगतेढलते सूर्य के साथ
घूमती पृथ्वी को।
गतिमान यथार्थ के परे
चिर जड़त्व से श्रापित धुरी को
आदि से पकड़ा है मैंने।
अब भला क्या अंत होगा
उस हृदय का
जो इसी गतिशीलता में
थम गया है।
यह सतत विस्तार मुझसे ही जुड़ा है
विचर लो तुम...
पर मुझे रहना यहाँ है
मैं तुम्हारी धुरी हूँ... जाना कहाँ है।