भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धूड़ है जीणो जे नीं घर अठै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धूड़ है जीणो जे नीं घर अठै
आ सोच परो बांध्यो म्हैं घर अठै

दो जणा मिलता जद आ कैवता
हालो हालां आपणो घर बठै

हरख बधाया हुई इण आंगणै
घराळां नै हुयो छोटो घर अठै

चूंच में दाणो ले चिड़ी बोली
रांधसूं, खणासूं, खासूं घर जठै

ऐ नुंवा कमरा ऐ नुंवी भींतां
खाली आं सूं हुवै घर घर कठै