भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

धोरां-धोरां पाणी रो धोखो है / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धोरां-धोरां पाणी रो धोखो है
हर सांस आस-राणी रो धोखो है

मन म्हारा गूंथ मत नित नुंवा धागा
औ जग आणी-जाणी रो धोखो है

समंदर री लहरां गिणतो सोचूं म्हैं
पाणी नै ई पाणी रो धोखो है

अमर पळ आसी पाछो हाथ थारै
राजा नै तो राणी रो धोखो है

सूरज आंधो होयग्यो सड़कां माथै
गांव गळी अर ढाणी रो धोखो है