भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धोरां रो धणियाप / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हारै च्यारूंमेर
धोरा ईं धोरा

धायोड़ां नै लखावै
    सोनै वरणा

भूखां नै
पीळीयै में पड़ियै टाबर-सा
आं धोरां रो धणियाप
म्हारी सांसां माथै

आ तो
आंरी मरजी
रोसै
का पोखै म्हनै !