भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

धोळै दोपारै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धोळै-दोपारै हुवै लाज रा चींथरा
रोवा-कूका बिच्चै
बचावो-बचावो री आवाजां
घर रै खूणा में
बैठिया सुणै लोग
खोलै कोनी आड़ै री आगळ
देखै कोनी खिडकी सूं बारै
            धोळै दोपारै !

काळी रात री कांई है कथा
सुणावू किसै मूंडै सूं ?

धोळै दोपारै ई कोनी कहीजै म्हारै सूं
धोळै दोपारै री बात !