भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ध्यान में बुला बुला कर हारा / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ध्यान में बुला बुला कर हारा
पर शब्दों से तो प्रभु मैंने मन में तुम्हें उतारा

साध यही थी यही साधना
सधे स्वरों से तुम्हें बाँधना
थी न शक्ति करूँ आराधना
पाने प्रेम तुम्हारा

जो अवर्ण्य था वाणी के हित
ध्वनि लय से कर उसको इंगित
कुछ तो भी पा सका भ्रमित
चित अपने लिये सहारा

भाव जगा देता दर्शन का
हर अक्षर दर्पण बन मन का
मिला मुझे तो फल जीवन का
शब्दों के ही द्वारा

ध्यान में बुला बुला कर हारा
पर शब्दों से तो प्रभु मैंने मन में तुम्हें उतारा