भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

नई दिशा / लीलाधर जगूड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बेटी जब पहली बार रजस्वला हुई
दादी और माँ के साथ
दीदी और भुली की भी याद आई मुझे

पिछली बार जब बुआ जी आईं थीं
साबी को यही समझाकर गईं
कि बेबी अब सातवें दर्ज़े में है
कभी भी अचानक कुछ हो सकता है

बेबी को पितर आशीषों से नहला गए
बेटी से ही खुलती है रिश्तों की नई दिशा ।