भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नए सपन सुंदर जोड़ेंगे / अरविन्द पासवान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ूब बढ़ेंगे
शृंग चढ़ेंगे
रोके-से हम नहीं रुकेंगे

ख़ूब खिलेंगे
ख़ूब फलेंगे
बाधाओं से नहीं झुकेंगे

ख़ूब पढ़ेंगे
ख़ूब लिखेंगे
अंधकार के गढ़ तोड़ेंगे

हमी रचेंगे
हमी बचेंगे
नए सपन सुंदर जोड़ेंगे