भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नए साल पर/ सजीव सारथी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाते हुए साल की,
बस चंद सांसें बाकी है,
आने वाला एक नया साल,
पूरी कायनात को,
अपनी आगोश में समेटने के लिए,
तैयार है

गुजरती हुई सदियों के दौर,
और सितारों के बदलते ठिकाने,
किसी मोड पर जाकर थामे तो,
मैं कुछ पल लेट लूँगा,
चैन से सो लूँगा....