भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नओं सिजु / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिक ॾींहुं
वरी न निकितो सिजु
ऊंदहि थी वेई चौतरफ़
मूं ॾीओ ॿारियो
पर हवाऊं अहिड़ियूं तेज़
जो विसामण लॻो ॾीओ!
मां
हवाउनि खे कीअं चवां त न हलो?
रुकिजी वञो।
ॿारिणो आ मूं खे ॾीओ!
हवा समुझी वेई
मुंहिंजी परेशानी
मूं बुधायो-सिजु बीमार आ
अजु न निकिरन्दो।
पर
मूं मां न रखु इहा उमेद
त न हलां
रुकिजी वञां!
त ॿरी पवेई ॾीओ
तूं ॾीए खे ई चईसि त
पैदा करे पाण में
उहा सघ,

जो विसाए न सघेसि को
अजु त मां आहियां
सुभाणे आंधी ईन्दी
ईन्दो तूफ़ानु त कीअं
संभाले सघन्दो पाण खे
एतिरो सवलो त न आ
रोशनीअ खे बचाइणु!
जवाबदारी खंई अथाईं त
पूरी बि त करे!

मूं ॾिठो ॾीए जी लाट
विसामंदे विसामंदे
ॼणु पाणु बचाए वेई
ॾेई रहियो हो ॾीओ
हाणि रोशनी
जनमु थी चुको हो
हिक नएं सिज जो!