भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

नकल / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दूजां रै
उठणै-बैठणै
बोलणै-चालणै री
नकल करतां-करतां
म्हैं आज भूलग्यो
कै म्हनै
किंयां उठणो-बैठणो
अर
बोलणो-चालणो चाईजै !