भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नकामां स्सै उजास लागै म्हनै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नकामां स्सै उजास लागै म्हनै
आदमी जद उदास लागै म्हनै

मिलै-मुळकै पण मांय धुखै लोग
मनां में कीं खटास लागै म्हनै

आ उछळ-कूद कठपूतळियां-सी
दूजै हाथां रास लागै म्हनै

रेत सागै रळती आ रेत देख
बात कोई खास लागै म्हनै

अगूण हुवै होळै-होळै लाल
जलमती नुंवी आस लागै म्हनै