भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नज़दीक या दूरी में / ज़्देन्येक वागनेर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


जो नज़दीक होता है
वह दूर हो सकता है
जो दूर ही होता है
वह पास हो सकता है

स्वप्निल दिल हृदय से
रोज़ मिला करता है
परन्तु चार आँखें
कुछ नहीं देखती हैं

दोनों दिल सपनों में
सफ़र कर रहे हैं
साथ साथ वे आसमान में
हर रात को उड़ते हैं

आता है सवेरा
मरता है अंधेरा
जागता है नया दिन
उदास हैं दोनों दिल

बड़ी तो दूरी में
प्यारा दिल रहता है
और मैं रोज़ पूछता हूँ
कि आज कहाँ है तू


मैंने इस कविता को हिंदी में ही लिखा है। अब यहाँ उसका चेक भाषा में अनुवाद पढ़ें


Blizoučké dálavy

Co blízké vypadá
v dálce se propadá
co v dáli mizí již
zítra snad bude blíž

Dvě duše zasněné
denně se potkají
však oči zmámené
vůbec se neznají

Dvě srdce tajný sen
na cestu pohání
na nebi nočním jen
těší se z létání

Jitro se otvírá
temnota umírá
nový den vstává již
srdce jsou smutku blíž

V nesmírné dálavě
rozmilé srdce dlí
a tak se ptám právě
kdepak jsi dneska ty



रचनाकार की टिप्पणी
इस कविता में एक खास सुंदरता है। हिंदी छंद में रोज़ मिला शब्द
मौजूद हैं। चेक भाषा में rozmilá शब्द है जिसका मतलब है प्यारी
चेक छंद में rozmilé शब्द है जिसका उच्चारण है रोज़मिले
(चेक भाषा में तीन लिंग और सात कारक होते हैं)