भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नणद ते भाबी रल बैठीआं (2) / पंजाबी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

नणद ते भाबी रल बैठीआं, जीआ कीते सू कौल करार
जे घर जम्मेगा गीगड़ा[1] नी, बीबा देवांगी फुलचिड़िआं[2]

अध्धी अध्धी रात, पिछला ई पहर, भाबो ने गीगड़ा जी जम्मेआ
लै दे नी भाबो फुलचिड़िआं, अड़ीऐ पूरा होया नी करार

ना तेरे बाप घड़ाईआं नी बीबी, ना तेरे वडड़े वीर
फुल-चिड़िआं बादशाहां दे वेहड़े, बीबा साडे ना फुलचिड़िआं

तेवरां विच्चों तेवर चंगेरा, पीया सो मेरी नणदी नू दे
तेवर-बेवर घर रख्ख भाबो, मैं लैणीआं फुलचिड़िआं

गहणिआं विच्चों गहणा आरसी, वे पीया सो मेरी नणदी नू दे
आरसी-पारसी रख्ख छड्ड भाबो, नी मैं लैणीआं फुलचिड़िआं

मझ्झां दे विच्चों बूरी चंगेरी पीया, सो मेरी नणदी नू दे
कालीयां-बूरीयां घर रख्ख भाबो, मैं तां लैणीआं फुलचिड़िआं

रुस्सी रुस्सी नणदी ओह गयी वे पीया, लंग्ग गयी दरिया
दराणीआं-जेठाणीआं पुछण लग्गीआं, वधाई दा की मिलिया

अड़िओ वीर तां मेरा राजे दा नौकर, भैणो ! भैण रुथड़ी मनाई
थाल भरया सुच्चे मोतिआं नी भेणे, उप्पर फुलचिड़िआं

लै नी बीबी! दे असीसां अड़िऐ, पूरा ते होया ई करार
भाई-भतीजा मेरा जुग-जुग जीवे, मेरी भाबो दा अल्लड़ सुहाग

शब्दार्थ
  1. बेटा
  2. बालों में गूधां जोनेवाला सोने का गहना