भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नतीजा कुछ न निकला उनको हाल-दिल सुनाने का / राजेंद्र नाथ 'रहबर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नतीजा कुछ न निकला उनको हाल-दिल सुनाने का
वो बल देते रहे आँचल को ,बल खाता रहा आँचल

इधर मज़बूर था मैं भी, उधर पाबन्द थे वो भी
खुली छत पर इशारे बन के लहराता रहा आँचल

वो आँचल को समेटे जब भी मेरे पास से गुज़रे
मिरे कानों में कुछ चुपके से कह जाता रहा आँचल