भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नदियों के बारे में एक नीग्रो का कथन / लैंग्स्टन ह्यूज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं नदियों को जानता हूँ
इस दुनिया की तरह
मैं नदियों को प्राचीन काल से जानता हूँ

और इनका प्रवाह
आदमी की नसों में बहते खून से पुराना है
मेरी आत्मा नदियों की तरह गहरी हो गई है
 
जब पौ फट रही थी
मैंने यूफ्रतेस नदी में स्नान किया
मैंने काँगो के क़रीब अपनी झोपड़ी बनाई
और इसकी लोरी सुनकर में सो गया ।

जब अब्राहम लिंकन न्यू ओरलेंस गए
तो मैंने मिस्सीसिप्पी को गाते हुए सुना
और सूर्यास्त में उसके तल की मिट्टी को
सुनहरी होते हुए देखा

मैं नदियों को जानता हूँ
प्राचीन और साँवली नदियों को
मेरी आत्मा नदियों की तरह गहरी हो गई है

अँग्रेज़ी से अनुवाद : विनोद दास