भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नदी हूँ मैं... / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बरसाती नाले की तरह
तीव्र है तुम्हारा प्यार
चलो नाला नहीं
झरना कह देती हूँ
अचानक फूट पड़ता है
और मैं
ढलान की
कमजोर घास को पकड़ कर
किसी तरह
खुद को बचा पाती हूँ...
चेतना की
जाने कितनी परतों के नीचे
झाँकने पर
मैं जानती हूँ
मैंने भी चाहा है तुम्हें
निरन्तर
प्रवाह कम नहीं मुझमें भी
पर
तुम मुझे बाढ़ बनाना चाहते हो
और मैं
नदी हूँ...