भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नन्हीं बिटिया सो जा सो जा / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नन्हीं-बिटिया सो जा सो जा
मेरी बाहों में तू सो जा
कब से हिला रही मैं सो जा
लोरी सुना रही मैं सो जा

निंदिया तुझे बुलाये सो जा
करे इशारे तुझको सो जा
अब भी आँखें खोल रही क्यों
ऊँ ऊँ करके बोल रही क्यों

तेरा प्यारा टोनी सोया
दादी सोई भैया सोया
लूसी भी तो सोई बिटिया
तू भी सो जा मेरी बिटिया

सो जा राजदुलारी सो जा
मेरी बांहों में ही सो जा

सो जा सो जा पल भर में ही
गहरी निंदिया आयेगी
तुझे उड़ाकर बात-बात में
परीलोक ले जायेगी

इसीलिए तू जल्दी सो जा
नन्ही बिटिया सो जा सो जा