भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नन्ही औरत / नाज़िम हिक़मत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नीली आँखों वाला एक विशालकाय दानव
एक नन्हीं औरत से प्यार करता था
और वह औरत हमेशा सपने देखा करती थी
एक छोटे-से घर के
जहाँ खिड़की के पास खिला हुआ हो
हरसिंगार

दानव उसे दानवों की तरह प्यार करता था
जैसे यह कोई बहुत बड़ा काम हो
लेकिन वह बना नहीं पाता था
अपने हाथों से उसके लिए
छोटा-सा घर
जहाँ खिड़की के पास खिला हुआ हो
हरसिंगार

नीली आँखों वाला वह महाकाय दानव
उस नन्हीं औरत को प्यार करता था।
लेकिन वो औरत उसके साथ चलते-चलते
थक चुकी थी बुरी तरह
दानव की काया बहुत विशाल थी
जबकि वह आराम करना चाहती थी
बाग में बने आरामदेह छोटे से घर में

विदा ! विदा ! — कहा उसने उन नीली आँखों से
और एक अमीर बौना उसे दूर ले गया
एक छोटे से घर में
जिसकी खिड़की के पास
खिलता है हरसिंगार

अब दानव की समझ में आई यह बात
कि किसी दानव के प्यार को
बहुत मुश्किल है छुपा पाना
उस छोटे से घर में
जिसकी खिड़की के पास
खिलता है हरसिंगार

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल जनविजय