भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नभ आंगनमे पवनक रथ पर / मायानन्द मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नभ आंगनमे पवनक रथपर
कारी कारी बादरि आयल।
देखितहि धरणीक बिषम पियास,
सजल-सजल भए गेल आकाश
बिजुरी केर कोमल कोरामे डुबइत
सुरुज किरण अलसायल।
झिहरि-झिहरि सुनि गगनक गान,
धरणि अधर पर मृदु मुसुकान
आकुल कोमल दूबरि दूभिक मनमे
नव-नव आशा उमड़ल।