भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नयन / एल्युआर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे नयन
शांत कभी थे ही नहीं

सागर के उस विस्तार को देखते हुए
जिसमें मैं डूब रहा था

अंततः
सफेद झाग उठा
भागते हुए कालेपन की ओर

सब मिट गया

मूल फ़्रांसिसी से अनुवाद : हेमन्त जोशी