भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नरक में / नजवान दरविश / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सन् 1930 के आसपास
ऐसा नाज़ियों द्वारा किया जाता था
अपने शिकारों को वे गैस चैम्बर के भीतर रखते थे

आज के जल्लाद कहीं अधिक पेशेवर हैं :
वे गैस चैम्बर को रखते हैं
अपने शिकारों के भीतर ही

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र