भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नष्ट हो चुका है मेरा घोंसला / डोरिस कारेवा / तेजी ग्रोवर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं वसन्त में रहती हूँ,
जबकि मेरे चहों ओर
जाड़ा है ।

जब ग्रीष्म आता है,
मेरे भीतर
पतझड़ रहता है ।

मैं ग़लत रास्ते पर हूँ,
अपने असमँजस में
पता नहीं चलता मुझे
कि कब गाना है
और क्यों।

नष्ट हो चुका है मेरा घोंसला,
मेरे चूज़े
बड़ी-सी दुनिया में
उड़ान भर चुके हैं ।

मेरे सिर में
पिंजरा और पलायन
घूमते हैं,

मेरे सीने से
एक गीत
फूट पड़ता है ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : तेजी ग्रोवर