भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

नसीहत / इक़बाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


बच्चा-ए-शाहीं[1] से कहता था उक़ाबे-साल -ख़ुर्द[2]
ऐ तिरे शहपर[3] पे आसाँ रिफ़अते- चर्ख़े-बरीं[4]

है शबाब[5]अपने लहू की आग मे‍ जलने का काम
सख़्त-कोशी[6]से है तल्ख़े-ज़िन्दगानी[7]अंग-बीं[8]

जो कबूतर पर झपटने मे‍ मज़ा है ऐ पिसर
वो मज़ा शायद कबूतर के लहू मे‍ भी नहीं
 

शब्दार्थ
  1. बाज़(पक्षी)के बच्चे से
  2. बूढ़ा उक़ाब
  3. पंख
  4. आकाश की ऊँचाई
  5. यौवन
  6. कठोर परिश्रम
  7. जीवन का कड़वापन
  8. शहद, मधु