भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नहीं जाऊंगा सभा में / सुभाष मुखोपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: सुभाष मुखोपाध्याय  » नहीं जाऊंगा सभा में

जो मुझे चाहता है
मैं उसके पास जाऊंगा।
गले में नहीं खिलते सुर
फिर भी मैं गाऊंगा गीत
मृदंग बजाऊंगा
बारिश आने पर
बाहर निकलूंगा भीगने
यदि डुबा सके तो नदी डुबाए मुझे।
तीर्थ करने मैं नहीं जाना चाहता
शून्य में नहीं है कोई फ़ायदा!
क्यों पुकारते हो
मन नहीं है, नहीं जाऊंगा सभा में।

मूल बंगला से अनुवाद : उत्पल बैनर्जी