भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नहीं दिखती धूप / नीरेन्द्रनाथ चक्रवर्ती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोई कह गया है
कि ख़त्म हो गई है बारिश
कि अब धूप है,
अब धूप है चारों ओर
आसमान में है धूप
सफ़ेद खिलखिलाती धूप मैदानों में है
अब आसमान फिर से सुन्दर-सुनील है
अब बादलों का रंग सफ़ेद है
सफ़ेद है फूलों का रंग
अब धूप का रंग भी सफ़ेद है
अब यह हृदय भी फिर से बादल-फूल-धूप की तरह
सफ़ेद हो जाएगा।

जाने किसने कही है यह बात
जाने किसने कही है
इसीलिए मैं घर बाहर आया हूँ
जबकि बाहर मुझे कहीं भी धूप नहीं दिखती
न बादल, न फूल
मुझे कुछ भी नहीं दिखाई देता
चलो, मैं घर लौट जाऊँगा!

मूल बांग्ला से अनुवाद : उत्पल बैनर्जी