भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नहीं बिके जो क़लम / राजेन्द्र स्वर्णकार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नहीं करेगी क्षमा , क़लम की सौ - सौ पुश्तें भी उनको !
कुत्सितजन के चरण धोक कर नाम ज़ियारत देते जो !
वृहद् विशद् दायित्व ; क़लम! मत भय कर, मत कर तू विश्राम,
चलती चल अविराम, स्वयं के रक्त में अपनी देह डुबो !

यहां अनधिकृत अधिकारी बन' हड़पें पर - अधिकारों को !
महिमामंडित किया जा रहा , मंच - मंच मक्कारों को !
पड़े हुए हैं यहां उपेक्षित, भव्य - दिव्य मंदिर - प्रांगण ;
अर्घ्य - तिलक - सम्मान अंध दुर्गंध भरे गलियारों को !

छ द् मी - छली सियाही का भी अर्थ उजाला कहते हैं !
गुंथे संपोलों नाग बिच्छुओं को मणि माला कहते हैं !
घोर स्वार्थवश महापाप करते कब हिचके निर्लज ये ?
गुजरे - गये अधम ; गंगा को गंदा नाला कहते हैं !

लार टपकते जम बैठे ये , हर चौके हर थाली पर !
नहीं जड़ों में मिलते ये , पर मिलते डाली - डाली पर !
पावन स्वेद की दो बूंदें भी नहीं इन्होंने अर्पित की ;
हक़ जतलाते मिलते ये , सामंत बने हरियाली पर !

ढीठ स्वघोषित शिखरपुरुष ; गलियों - बाज़ारों गुर्राते !
मटमैले मैले मन वाले , दर्पण को भी झुठलाते !
क्षुधा - एषणा - लिप्सा - पीड़ित ; दनुज मनुज से बन बैठे ,
लज्जा होती तनिक  ; डूब' चुल्लू पानी में मर जाते !

आत्म - प्रशंसक दंभी रहते ताड़ वृक्ष ज्यों तने तने !
घृणित घिनौनों पतितों के मन - मस्तक विष्टा - कीच सने !
सड़ांध - सागर इनके भीतर का देखो , घिन हो जाए,
जग को भरमाते फिरते ये भ्रष्ट - अशिष्ट ; विशिष्ट बने !

ठोस स्वर्ण प्रतिमाएं पस्त - पराजित खोखल पुतलों से !
गुणी गहन गंभीर , प्रताड़ित होते पग - पग छिछलों से !
श्रेष्ठ सृजन कुम्हला' - मुर्झाए पूर्वाग्रह - झंझाओं में ,
हंस पिट रहे यत्र तत्र , अधिनायकवादी बगुलों से !

लामबंद लंपट लुच्चे ठग कपटी कुटिल कमीने घाघ !
जुगलबंदियां नागों - कागों की ; गूंजित वीभत्सी राग !
झूम रहे हैं गिद्ध - भेड़िये , गलबहियां डाले - डाले ,
बजे दुंदुभी दुराग्रहों की ; चाटुकार मिल' खेलें फाग !

नहीं बिके जो क़लम ; दोमुंहों - दुष्टों को धिक्कारेगी !
सदा सनातन शिवम् सुंदरम् सत्यम् वह उच्चारेगी !
जीवित निर्भय सत्य ; … जान कर युग होगा आश्वस्त् - प्रसन्न,
एक पांत प्रतिक्रिया में विष भी उगलेगी - फुत्कारेगी  !
क़लम न लेकिन कभी - किसी से कहीं हार स्वीकारेगी !!!