भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

नाक / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पैली तो
नाक राखण खातर
पगां हेठै दाबली
म्हैं खुद
       म्हारी अकल
अबै
चौईसूं घंटा घूमै
आंख्यां आगै
सूदखोर साहूकार री
        सूगली सकल ।