भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नाज़ मत कर तुझे अदा की क़सम / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नाज़ मत कर तुझे अदा की क़सम
बेतकल्‍लुफ़ हो मिल ख़ुदा की क़सम

ज़ुल्‍फ़-ओ-रुख़ है तिरा जो लैल-ओ-नहार
मुझकूँ वल्‍लैल-ओ-वलज़हा की क़सम

सर्व क़द कूँ कुशीदा क़ामत-ए-यार
रास्‍त बोल्‍या हूँ तुझ अदा की क़सम

मुस्‍हफ़-ए-रुख़ तिरा है सूरत-ए-फ़ख़
मुझकूँ वन्‍नज्‍म इज़ा हवा की क़सम

ज़ुल्‍म मत कर सजन 'वली' ऊपर
तुझ कूँ है शाह-ए-कर्बला की क़सम