भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नाटक / के० सच्चिदानंदन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नाटक के बाद
अभिनेता आते हैं मंच पर
अभिवादन करते हैं
नीचे बैठे चरित्रों का
याद किए शब्द ख़त्म हो चुके हैं
दर्शक देते हैं उनके फ़ैले हाथों में
जीवन की रोटी।


अनुवाद : राजेन्द्र धोड़पकर