भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नामवरों से गुफ़्तगू करने के लिए / वेरा पावलोवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नामवरों से गुफ़्तगू करने के लिए
चढ़ा लेना उनका चश्मा ;

यकसाँ होने को क़िताबों से
लिखने बैठ जाना उन्हें फिर से ;

सम्पादन करना
पाक फ़रमानों का

और कायनात की तनहा क़ैद में
आधी रात के पहर

दीवाल थपथपाते
बातें करना घड़ी से

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल