भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

नाव घिरी मझधार भायला / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नाव घिरी मझधार भायला
अब तूं है पतवार भायला

कबूल है अब हर जंग म्हनै
तूं म्हारो हथियार भायला

थारै भरोसै रैवां सदा
म्हारा ऐढा सार भायला

लारै देखूं जद तूं दीसै
मानूं कोनी हार भायला

होठां सूं हरफ कोनी काढूं
पोख भलांई मार भायला