भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ना लपेट ना लाग हुवै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ना लपेट ना लाग हुवै
आखर-आखर आग हुवै

फळै सपनो थारो-म्हारो
सोगरा फळी साग हुवै

सांस-सांस जीवै सौरम
हरियाळो मन बाग हुवै

अब स्सो कीं हुवै ऊजळो
कठै न कोई दाग हुवै

भींतां रो के काम अठै
हर ठौड़ मिनख-राग हुवै