भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ना हरख है ना तिंवार अठै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ना हरख है ना तिंवार अठै
आपां आया बेकार अठै

हवा धांसै अर थूकै खून
लागै सगळा बीमार अठै

सांस नै खावण लागी सांस
पड़सी किंयां अबै पार अठै

अड़ै तो अड़ो भलांई ऐढ़ा
मिलै कोनी कीं उधार अठै

अळघा ऊभा मुळकै सगळा
बेड़ो करसी कुण पार अठै